Sitemap

Monday, January 5, 2015

ठिठुरते बेसहारा आदमी से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने पूछे हाल-चाल

Uttarakhand News, Dehradun - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कड़कड़ाती ठंड में सड़क के किनारे सोने पर मजबूर व्यक्ति हाल-चाल पूछे। राज्य की ऊंची चोटियों पर भारी बर्फबारी और मैदानी क्षेत्रों में हुई बारिश की वजह से ठंड काफी बढ़ गई है और इससे बेघरबार लोगों की हालत बहुत खराब हो गई है।

उत्तराखंड की जनता के लिए हरीश रावत के मन में कितना प्यार है यह बात उस समय और उभरकर सामने आ गई, जब शुक्रवार देर शाम घंटाघर चौराहे का दौरा करते वक्त वह सड़क के किनारे सो रहे एक बेसारा आदमी के पास पहुंच गए और उसका हालचाल पूछने लगे। ऐसे लोगों को सर्दी के प्रकोप से बचाने के लिए राज्य सरकार ने अलाव की लकड़ी के लिए जिलाधिकारियों को चार लाख रुपये दिए हैं। प्रेस व्ज्ञिप्ति में यह भी कहा गया है कि लापरवाही होने पर जिलाधिकारी जिम्मेदार होंगे।

दरअसल रावत सचिवालय में बैठक करने के बाद देर शाम को शहर के भ्रमण पर निकले थे और घंटाघर चौराहे का निरीक्षण कर रहे थे। इसके बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बल्लूपुर चौक होते हुए आई.एस.बी.टी. पहुंचे और वहां हालात ठीक न पाकर उन्होंने वी.सी. एम.डी.डीे.ए. को फोन करके फटकार लगाई। रावत ने कहा कि आई.एस.बी.टी. के संबंध में उनके द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। उन्होंने वी.सी. एम.डी.डीे.ए. को निर्देश दिए कि आई.एस.बी.टी. के बेहतर रखरखाव के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएं।

इसके बाद मुख्यमंत्री आई.एस.बी.टी. स्थित रैनबसेरे में सो रहे व्यक्ति से मिले और उसके हालचाल पूछे। रावत ने रैनबसेरे के बेहतर रखरखाव के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि जिन क्षेत्रों में अलाव नहीं जल रहे हैं, वहां पर जिम्मेदार व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के इस औचक दौरे में उनके मीडिया प्रभारी सुरेंद्र कुमार, जसबीर रावत, सलाहकार डॉ संजय चौधरी, हरक सिंह रावत और एस.पी. सिटी अजय सिंह भी उनके साथ मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment