Sitemap

Thursday, January 8, 2015

हरीश रावत की पहली जनअदालत यमकेश्वर के कांडी में लगी

Uttarakhand News, Pauri - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने साल 2015 के पहले ही दिन घोषणा की थी कि राज्य में 26 जनआदालतें लगाई जाएंगी और यमकेश्वर के एक पिछड़े और लगभग उपेक्षित से गांव कांडी से उन्होंने अपनी जनअदालतों का क्रम 6 जनवरी से शुरू कर दिया है।

उत्तराखंड में जहां नगरीय इलाकों की जनता के लिए भी अपनी समस्याओं के निवारण के लिए डीएम और जनप्रतिनिधि तक पहुंचना एक बड़ी उपलब्धि जैसा होता है, वहीं राज्य के एक अतिदुर्गम स्थल पर स्थित गांव कांडी में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री अपने दल-बल के साथ पहुंचे और जनअदालत लगाकर ग्रामीणों को  एक-एक करके बुलाया और उनकी समस्याएं सुनीं व अधिकारियों को निर्देश दिए कि समस्याओं का निस्तारण जल्द से जल्द किया जाए।

बहुत से ग्रामीणों की शिकायत थी कि उनकी पेंशन लंबित पड़ी है, जिस पर रावत ने नाराज़गी प्रकट की और जिलाधिकारी को निर्देश दिए कि वह खुद ऐसे मामलों की मॉनिटरिंग करें। उन्होंने कहा कि पेंशन आर्थिक रूप से कमज़ोर लोगों का अधिकार है और यदि एक महीने के भीतर ऐसे लंबित मामलों का निस्तारण नहीं किया गया, तो जिम्मेदारी तय की जाएगी।

इस दौरान रावत ने निम्न आदेश दिए -

॰ तिमयाली मोटरमार्ग का मुआवजा आगमी 15 फरवरी तक वितरित किया जाए
॰ गरुड़चट्टी तोक के विद्युतीकरण के लिए वन विभाग के साथ संयुक्त निरीक्षण किया जाए
॰ कौड़िया-किमसार मोटरमार्ग का मामला वाइल्ड-लाइफ बोर्ड के पास ले जाया जाए
॰ ग्राम धारी की पेयजल की समस्या का निस्तारण किया जाए
॰ थागड़ प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक की नियुक्ति जल्द की जाए
॰ बडौल गांव में पुश्ता व सीसी बनाने की कार्यवाही शुरू हो
॰ पीडीएस का बकाया राश्न लाभार्थियों को जल्द वितरित कराया जाए

इसके अतिरिक्त रावत ने पोखाल से मांडेई तक के 6 किलोमीटर मार्ग के डामरीकरण और तियूरोखाल से निसणी तक 5 किलोमीटर लंबी सड़क को भी स्वीकृति प्रदान की।

मुख्यमंत्री ने माला ग्रामसभा में नोखाल से मालाकाट मार्ग की शिकायत को गंभीर करार दिया और जिलाधिकारी को निर्देश दिए कि वह इस मामले को देखें।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने स्व. जगमोहन सिंह नेगी की प्रतिमा का अनावरण किया और कोटद्वार बेस अस्पताल का नाम चंद्रमोहन सिंह नेगी के नाम पर किए जाने की घोषणा की। उन्होंने क्षेत्र की जनता को संबोधित करते हुए आश्वासन दिया कि वह अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचकर उनकी समस्याओं का निवारण उनके घर पर ही करने का प्रयास करेंगे।

इस अवसर पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के साथ स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी, स्थानीय विधायक विजया बर्थवाल, क्षेत्र प्रमुख कृष्णा नेगी, महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरोजिनी कैंत्युरा आदि उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment