Posts

Showing posts from February, 2015

गढ़वाल भवन का प्रथम तल सील

Image
Uttarakhand News - सबसे पहले अनिल कुमार पंत जी ने मुझे सूचित किया था कि दिल्ली में पंचकुइंया मार्ग पर स्थित गढ़वाल भवन की पहली मंजिल को NDMC ने सील कर दिया है। आमतौर पर चुपचाप अपना काम करने वाले धीर-गंभीर पंत जी उस दिन काफी उत्साहित थे। यह स्वाभाविक ही है, क्योंकि वे उन कुछ गिने-चुने लोगों में से एक हैं, जो निस्वार्थ भाव से गढ़वाल हितैषिणी सभा के काम में जुटे रहते हैं और लाइम-लाइट से दूर रहते हैं। उन्होंने हिमालयन न्यूज एक का लिंक भी भेजा था और कहा था कि मैं इस न्यूज को ज़रूर लगाऊं, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह समाचार पहुंच सके। व्यस्तता के चलते मैं उस दिन इसे नहीं लगा सका, इसलिए, देर से ही सही, पर आज लगा रहा हूं। हिमालयन न्यूज में प्रकाशित समाचार - “दिल्ली के गढ़वाल भवन की पहली मंजिल को NDMC ने सील कर दिया है। 2008 से इस मंजिल पर किरायदार के जरिये किराया नहीं दिए जाने की वजह से NDMC ने इसे सील किया है। इस फैसले का गढ़वाल भवन से जुड़े लोगों ने स्वागत किया है। किरायदार पर इस मंजिल पर अवैध तरीके से कब्जा करने का आरोप है। कब्जे को लेकर उत्तराखंड समाज और किरायदार के बीच काफी लम्बे

उत्तराखंड न्यूज डॉट ओआरजी परिवार में देखते-ही-देखते हो गए 1000 सदस्य

Image
Uttarakhand News - कल सुबह शोभा नेगी जी ने जैसे ही uttarakhandnews.org का फेसबुक पेज लाइक किया, तो दो महीने से भी कम पुराने इस पेज (facebook.com/uttarakhandnews.org) पर 1000 लाइक्स अंकित हो गए। हम उत्तराखंड के सभी शुभचिंतकों का धन्यवाद करना चाहते हैं, जिन्होंने हमारी इस छोटी-सी शुरुआत का फेसबुक पर लाइक का बटन दबाकर समर्थन किया है।  शोभा नेगी व उनके परिवार का चित्र। दिसंबर के अंतिम सप्ताह में जब हमने इस पेज को लाइव किया था, तो हमने सोचा था कि इस पेज को जो पहले सौ लोग लाइक करेंगे, उनके फोटो प्रकाशित करके हम उनका धन्यवाद करेंगे, पर लाइक्स इतनी तेजी से बढ़े कि पता ही नहीं चला कि कब 1000 की संख्या भी पार हो गई। पर  किसी अन्य अवसर पर उन सभी 100 लोगों के फोटो भी हम जरूर प्रकाशित करेंगे, उनका धन्यवाद करने के लिए। आप सभी उत्तराखंडी भाई-बहनों को हम यह विश्वास भी दिलाना चाहते हैं कि आपने जो भरोसा हम पर दिखाया है उसे हम कभी टूटने नहीं देंगे।uttarakhandnews.org में सिर्फ औ सिर्फ उत्तराखंड और उत्तराखंडियों के हित की बात ही की जाएगी। uttarakhandnews.org आपकी अपनी संपत्ति है, जैसा आप सभी च

उत्तराखंड सरकार का हाथ औद्योगिक घरानों के साथ

Uttarakhand News - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गुरुवार को 'वाइब्रेंट उत्तराखंड ट्रेड-फेयर 2015' नामक कार्यक्रम का देहरादून स्थित परेड ग्राउंड पर गुरुवार के दिन विधिवत रूप से शुभारंभ किया। कार्यक्रम का आयोजन इंडिया इंटरनेशनल ट्रेड इवेंट अॉर्गेनाइजेशन (आईआईटीइओ) व इंडस्ट्रीज एसोसिएशन अॉफ उत्तराखंड (आईएयू) के तत्वावधान में किया गया।  मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों से उत्तराखंड में निवेश का अनुकूल माहौल बनता है और अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलती है। उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश सरकार देशी व विदेशी निवेश को राज्य में लाने के लिए अनुकूल वातावरण बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और इसके अनुकूल नीतियां बनाई जा रही हैं। उन्होंने एम.एस.एम.ई नीति का जिक्र भी किया। इस अवसर पर हरीश रावत ने देशी-विदेशी औद्योगिक घरानों का आह्वान किया कि वे उत्तराखंड में उद्योगों की स्थापना करें, इसमें राज्य सरकार उनका भरपूर सहयोग करेगी। आईआईटीइओ के चेयरमैन बी.एस. नेगी ने भी इस मौके पर विचार व्यक्त किए। विधायक राजकुमार, आईएयू अध्यक्ष पंकज

आप की जीत से उत्तराखंडियों को मिली - निराशा, हताशा और अनिश्चितता

Uttarakhand News - उत्तराखंड मूल के 36 लाख लोगों को आम आदमी पार्टी की 'भयावह' चुनावी जीत से कोई फायदा नहीं हुआ है। अरविंद केजरीवाल को दिल्ली के करीब 18-19 लाख उत्तराखंडी मतदाताओं में एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं मिला, जो उनकी तथाकथित ईमानदार पार्टी के बैनर तले चुनावी संग्राम में हिस्सा ले पाता। स्पष्ट है उन्होंने उत्तराखंडियों की सिरे से उपेक्षा कर दी। क्या उत्तराखंड के लोग आम आदमी नहीं हैंं? जब अन्ना का आंदोलन अपने उफान पर था, तो हजारों उत्तराखंडी लोग उनके साथ दृढ़ता से खड़े थे। बाद में अरविंद केजरीवाल ने राजनीतिक पार्टी का गठन किया, तो उत्तराखंडियों ने उनके फैसले का समर्थन किया और पार्टी के प्रचार-प्रसार मेें पूरा सहयोग किया। आम आदमी पार्टी की नीतियों का भरपूर प्रचार-प्रसार किया और उसकी ईमानदार होने की छवि को मजबूत किया। उत्तराखंडियों को उम्मीद थी कि कम से कम अरविंद केजरीवाल वे गलतियां तो नहीं दोहराएंगे, जो गलतियां सत्ता के नशे में चूर कांग्रेस और भाजपा ने उत्तराखंडियों को जनसंख्या के अनुसार टिकट न देकर की थी। दुख की बात है कि यह उम्मीद एक मृग-मरीचिका ही निकली। अरविंद केजरीवा

If you accept climate disruption, then there will be development disruption: DSDS 2015

Uttarakhand News - Heads of State, Nobel Laureates and thought leaders converged at the landmark 15 th  Delhi Sustainable Development Summit 2015 (DSDS) to find solutions for some of the key issues that will shape our global planet. This flagship event of The Energy and Resources Institute (TERI) provided a unique platform to further the developmental discourse on ‘Sustainable Development Goals and Dealing with Climate Change’, the theme this year. The DSDS 2015 assumes significance as the post-2015 development agenda is being finalized -- the United Nations General Assembly (UNGA) is expected to adopt the new set of goals in September 2015 and the climate negotiations (Conference of Parties – CoP21) will be held Paris later this year. Dr R K Pachauri , Director-General, TERI, said: “The IPCC reports have proved beyond doubt that if we don’t take immediate measures, the future will be catastrophic. But climate change also offers an opportunity of co-benefits – investing in clean

Uttarakhand News - Five (5) Important News from Uttarakhand

Uttarakhand News - The people of Uttarakhand continued to feel chillness in the weather because of snowfall in the higher reaches and rain in the plains. In my opinion, following are the five (5) most important news of this week: 1. Kedarnath, Badrinath, Gangotri and Yamnotri regions got covered under thick layers of snow. India's winter game destination Auli and high altitude areas of Pithauragarh also received fresh snowfall. 2. In spite of the heavy snowfall and rain, no highways of Uttarakhand got obstructed. It's actually very unusual, otherwise moderate rain is enough to block roads in the state, especially, in the capital Dehradun. The number of tourists visiting Uttarakhand reduced as compared to the last year data. 3. The Uttarakhand Spring Bird Festival begins at Chunakhan February 4. The five-day bird festival is organized with the objective to make Uttarakhand hottest bird watching destination. 4. The Uttarakhand government has asked central government fo

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने प्रवासियों से कहा - घर लौट आओ प्लीज

Uttarakhand News - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 1 फरवरी के दिन मुंबई में निर्माणाधीन बद्रीनाथ मंदिर का शिलान्यास किया। करीब 11 करोड़ रुपये की लागत से बन रहे इस मंदिर का निर्माण उत्तराखंड मित्र मंडल नाम की संस्था कर रही है। पिछले कुछ सालों में उत्तराखंडी प्रवासियों ने जिस तरह से शानदार तरक्की की है, उसकी रावत ने तारीफ की और उनसे अनुरोध किया कि अब वे राज्य के विकास में योगदान दें। यह वास्तव में गर्व की बात है कि उत्तराखंड के लोग जहां-जहां भी जाते हैं, वहां अपनी सभ्यता, संस्कृति और संस्कार साथ ले जाते हैं। लेकिन उत्तराखंड से हो रहे भारी पलायन व उसके नुकसान से भली-भांति परिचित रावत ने इस अवसर पर प्रवासी उत्तराखंडियों का आह्वान किया कि वे उत्तराखंड वापस लौट आएं। उन्होंने विशेष रूप से प्रवासी उत्तराखंडी निवेशकों से आग्रह किया कि वे अपनी जन्मभूमि के विकास में सहयोग करें और उत्तराखंड में उद्योग-धंघे लगाएं,  जिससे राज्य में रोजगार के अवसर पैदा हों और वर्तमान पीढ़ी के हो रहे भारी पलायन में कुछ कमी लाई जा सके। मेरा गांव मेरा धन योजना के बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री ने प्रवासी व

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने की पत्रकारों की सराहना

Uttarakhand News - उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 30 जनवरी को इंडियन फेडरेशन अॉफ वर्किंग जर्नलिस्ट के देहरादून नगर निगम में आयोजित प्रांतीय अधिवेशन में पत्रकारों के संगठन को पत्रकारिता के लिए मार्गदर्शक और समाज को दिशा देने वाला बताया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने पत्रकारों और समाज सेवा से जुड़े लोगों को सम्मानित भी किया। इस अवसर पर आपदा और पुनर्निर्माण के समय मीडिया की भूमिका विषय पर एक परिचर्चा का आयोजन भी किया गया। मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सन 2013 में आई प्राकृतिक आपदा के दौरान सेना, अर्द्धसैनिक बलों, पुलिस के जवानों और स्थानीय लोगों ने आपदा पीड़ितों की जिस तरह से सहायता की थी, वह मानव सेवा का एक बड़ा उदाहरण है। माइनस 7 डिग्री तापमान में भी उत्तराखंड के लोग जिस तरह से पुनर्निर्माण के काम में लगे रहे, वह उनकी समाज के प्रति प्रतिबद्धता और सेवा भाव का जीवंत उदाहरण है। रावत ने कहा कि उन्हें मीडिया से यही अपेक्षा है कि वह आपदा से ग्रस्त क्षेत्रों के पुनर्निर्माण के सकारात्मक पक्ष को देश व दुनिया के सामने प्रस्तुत करे। आपदा से ग्रस्त केदारनाथ के